कानपुर देहात: जान हथेली पर लेकर करते हाई-वे पार…..

0
9

कानपुर देहात: उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात जनपद में एक ओर सरकार सड़क पर दुर्घटनाएं रोकने के लिए सड़क सुरक्षा माह मना रही है। तो वहीं दूसरी ओर सड़कों पर पैदल व साइकिल सवार मुसाफिरों के सुरक्षित आवागमन के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग पर अंडर पास का निर्माण भी नहीं करा सकी। ऐसे में सड़क सुरक्षा माह कैसे सफल होगा यह सवालिया निशान है। रनियां आबादी क्षेत्र में अंडर पास न होने से दुर्घटनाएं नहीं थम रही हैं। गुरुवार को एक बार फिर पैदल हाई-वे पार कर रही एक बुजुर्ग महिला की मार्ग दुर्घटना में मौत हो गई। राष्ट्रीय राजमार्ग एनएच 19 पर रनियां आबादी क्षेत्र में एनएचएआई की ओर से फ्लाई-ओवर, अंडरपास का निर्माण नहीं कराया गया है। रनियां कस्बा में बने घर तथा उसमें रहने बाली आबादी नेशनल हाई-वे के दोनों ओर निवास करती है। इसके अलावा आबादी क्षेत्र से ही अगल बगल के दर्जनों गांव के लिए संपर्क मार्गों का जुड़ाव भी हैै। प्रतिदिन सैकड़ों ग्रामींण रनियां, कानपुर, अकबरपुर सहित तमाम जगहों पर नौकरी पेशा तथा व्यापार करने व निजी कार्य करने के लिए रनियां होते हुए आवागमन करते हैं। सुबह से लेकर शाम तक रनियां आबादी क्षेत्र में कस्बा वासी तथा सैकड़ों ग्रामीण हाई-वे के बीच में लगे लोहे की रेलिंग व छोटे-मोटे कटों से जान जोखिम में डालकर सड़क पार करते हैंं। राष्ट्रीय राजमार्ग होने के चलते तेज रफ्तार वाहनों तथा भारी वाहनों के गुजरने से लोगों की सांसें अक्सर सड़क पार करने में अटकी रहती हैं। इसके साथ ही बीते कुछ सालों में हुए अनगिनत सड़क हादसों में सैकड़ों लोग अपनी जान गवा चुके हैं। इसके साथ ही हजारों लोग अपाहिज होकर घर व अस्पतालों में उपचार करा रहे हैं। बीते सोमवार से परिवहन विभाग द्वारा सड़क सुरक्षा माह की औपचारिक शुरुआत की गई हैै। स्थानीय लोगों का मानना है कि अगर एक माह तक ही विभाग के अधिकारी व कर्मचारी रनियां आबादी क्षेत्र में सड़कों की सुरक्षा के लिए जागरूक हो जाए तो कम से कम एक माह तक ही हादसों में कमी आए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here